परिवार नियोजन पखवाड़ा के तहत 429 महिलाओं एवं 4 पुरुषों ने करायी नसबंदी

गोपालगंज जिले में परिवार नियोजन पखवाड़ा के दौरान 429 महिलाओं ने बंध्याकरण कराई है। वहीं 10 पुरुषों का भी नसबंदी किया गया है। वही गोपालगंज जिला पूरे बिहार में अंतरा सुई देने के मामले में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। जिले में 2038 महिलाओं को अंतरा की सुई दी गयी है। जबकि अररिया जिला पहले स्थान पर है।

0
59
  • अंतरा सुई देने के मामले में पूरे में गोपालगंज को मिला दूसरा स्थान

  • 2038 महिलाओं को दी गयी अंतरा सुई

  • 11 से 31 जुलाई तक चलाया गया परिवार नियोजन पखवाड़ा

गोपालगंज जिले में परिवार नियोजन पखवाड़ा के दौरान 429 महिलाओं ने बंध्याकरण कराई है। वहीं 10 पुरुषों का भी नसबंदी किया गया है। वही गोपालगंज जिला पूरे बिहार में अंतरा सुई देने के मामले में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। जिले में 2038 महिलाओं को अंतरा की सुई दी गयी है। जबकि अररिया जिला पहले स्थान पर है।

यहां बता दें कि जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा 11 से 31 जुलाई तक चलाया गया। बंध्याकरण कराने वाली एवं कॉपर टी लगवाने वाली महिलाओं को परिवार नियोजन के तहत प्रोत्साहन राशि भी दी गयी है। इस दौरान परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों के अत्यधिक इस्तेमाल पर ज़ोर देने के साथ विभिन्न गतिविधियों के जरिए सामुदायिक जागरूकता बढ़ाने पर बल दिया गया।

यहां बता दें कि 11 जुलाई से जिलों में परिवार नियोजन जागरूकता के लिए चलायी जा रही सारथी जागरूकता रथ का संचालन 31 जुलाई तक किया गया परिवार नियोजन के दूरगामी फ़ायदों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए जागरूकता कार्यक्रमों में तेजी लायी गई । परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों के इस्तेमाल को बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य शिविरों के आयोजन पर विशेष बल दिया गया ।

जिला सिविल सर्जन डॉ. नन्दकिशोर प्रसाद सिंह ने बताया कि परिवार नियोजन के दूरगामी फ़ायदों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए सारथी रथ के माध्यम से जागरूकता अभियान चलाया गया।परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों के इस्तेमाल को बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य शिविरों के आयोजन पर विशेष बल दिया गया।

आशा कार्यकर्ता व एएनएम का कार्य सराहनीय

आशा एवं एएनएम के सहयोग से 15 साल से 49 साल तक के योग्य दंपतियों को परिवार नियोजन के साधनों को अपनाने के लिए प्रेरित करने के साथ सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली प्रोत्साहन राशि के विषय में भी जानकारी दी गई । परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों के इस्तेमाल में गति लाने के लिए स्वास्थ्य उपकेंद्र के साथ जिला सदर अस्पताल एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर कोंडोम ,गर्भनिरोधक गोली एवं अंतरा इंजेक्शन की उपलब्धता भी बढ़ायी गई ।

परिवार नियोजन के तहत प्रोत्साहन धनराशि

  • परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों के इस्तेमाल में बढ़ोतरी के लिए सरकार द्वारा लाभार्थियों को प्रोत्साहन धनराशि दी गयी है।
    महिला नसबंदी के लिए 2000 रुपए
    • पुरुष नसबंदी के लिए 3000 रुपए
    • प्रसव के बाद महिला नसबंदी कराने पर 3000 रुपए
    • प्रसव के बाद कॉपर-टी लगवाने पर 300 रुपए
    • गर्भपात के बाद कॉपर-टी लगवाने पर 300 रुपए
    • अंतरा सुई लगाने पर महिला को 100 रुपए

कितने लोगों ने लिया लाभ

पखवाड़ा के दौरान 433 लोगों ने परिवार नियोजन के स्थायी साधन अपनाया है। जिसमे 429 महिलाओं एवं 4 पुरुषों ने नसबंदी कराई है। 2038 महिलाओं ने अंतरा की सुई (गर्भनिरोधक सुई) लिया है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here